फर्जी आईपीएस हरिद्वार में गिरफ्तार, खुद को बता रहा था 2018 बैच का अधिकारी

नवीन चौहान.
अपने आपको 2018 बैच का आईपीएस अधिकारी बताने वाले एक फर्जी आईपीएस को पुलिस ने हरिद्वार से गिरफ्तार किया है। आरोप है कि वह पुलिस पर दबाव बनाकर अपने लिए एक गेस्ट हाउस बुक कराना और सुरक्षा के लिए कांस्टेबल की मांग कर रहा था।

पुलिस के मुताबिक सीओ नगर कोतवाली अभय प्रताप सिंह से एक व्यक्ति ने खुद को 2018 बैच का आईपीएस होने की बात कहते हुए अपने व अपनी महिला मित्र के लिए कोतवाली नगर पुलिस से एक गेस्ट हाउस और साथ चलने के लिए एक कांस्टेबल की डिमांड कर रहा था।

उसकी बातों पर शक होने के बाद सीओ अभय प्रताप ने पुलिस की एक टीम बनाकर उसकी छानबीन कर जानकारी जुटाने के लिए कहा। जांच में पता चला कि जो नाम उस व्यक्ति ने अपना बताया उस नाम का कोई भी आईपीएस 2018 बैच से पास आउट नहीं था। उसके फर्जी आईपीएस होने की पुष्टि होने पर पुलिस न एक्शन मोड में आ गई।

कोतवाली पुलिस ने उस व्यक्ति से उसकी आईडी मांगी तो वह सकपका गया। सख्ती से पूछताछ करने पर उसने सारी हकीकत बता दी। पुलिस के अनुसार उसने बताया कि वह यूपीएससी की तैयारी कर रहा है। इसके अलावा वह लॉ भी कर रहा है। वह दो दिन के लिए उत्तराखंड घूमने के लिए अपनी महिला मित्र के साथ आया है। वह खुद को आईपीएस अधिकारी बताकर पुलिस से सुविधा प्राप्त करना चाहता था।

पुलिस ने उसकी हकीकत सामने आने पर उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी का नाम सागर वाघमारे, निवासी दत्तात्रेय कॉम्पलैक्स सी विंग, थाना निरूल, जिला ठाणे नवीं मुंबई महाराष्ट्र बताया गया है।

फर्जी आईपीएस को गिरफ्तार करने में सीओ अभय प्रताप सिंह, सहायक पुलिस अधीक्षक विशाखा भदाने, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राकेंद्र कठैत, एसएसआई अरविंद रतूड़ी, कांस्टेबल शशिकांत त्यागी, राजेश सेमल्टी शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *