मोरातारा ज्वैलर्स शोरूम के मालिक पर हुए कातिलाना हमले और रंगदारी मांगने का खुलासा, बिजनौर के पांच बदमाश गिरफ्तार


नवीन चौहान.
मोरातारा ज्वैलर्स शोरूम के मालिक निपुण मित्तल पर हुए कातिलाना हमले और 50 लाख की रंगदारी मांगने की घटना का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। इस घटना में शामिल बदमाश यूपी के बिजनौर जिले के रहने वाले बताये गये हैं। पुलिस ने इस मामले में पांच बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

एसएसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने प्रेसवार्ता के दौरान घटना का खुलासा करते हुए बताया कि दिनांक 27.07.2022 को वादी निपुण मित्तल पुत्र नवीन चन्द्र नि0 मयूर बिहार आर्य नगर जवालापुर हरिद्वार द्वारा थाना ज्वालापुर पर तहरीर प्रस्तुत की कि दिनांक 26.07.2022 को रात्रि करीब 8.15 बजे जब वह अपने ज्वैलर्री शोरूम मोरातारा से अपने घर स्कूटी से जा रहा था तो थोडी दूरी पर उसे दो युवकों द्वारा स्कूटी में तेजी से ओवर टेक किया गया व उसे अपने उपर फायर होना महसूस हुआ। उस समय उसने स्कूटी रोककर देखा सब कुछ सलामत होने पर कॉवडियों द्वारा साईलेन्सर से आवाज करना मानकर वह घर चला गया। रात करीब 11.00 बजे उसने अपना लैपटॉप जो कि स्कूटी पर पैरों के बीच रखा था खोलकर देखा तो उसमें एक स्थान पर छेद के कारण लैपटॉप टुटना पाया गया। अगले दिन दोपहर में उसने लैपटॉप को मैकनिक को दिखाया तो मैकनिक द्वारा लैपटॉप के अन्दर से .32 बोर की बुलेट निकालने पर उसे अपने उपर अज्ञात व्यक्ति द्वारा जानलेवा हमला करने का अहसास हुआ। तहरीर के आधार पर कोतवाली ज्वालापुर में मु0अ0सं0 415/22 धारा 307 भादवि पंजीकृत कर अभियोग की विवेचना प्रारम्भ की गयी।

इसी बीच वादी को दिनांक 27.07.2022 को उसके मोबाईल फोन पर कुख्यात अपराधी सुनील राठी के नाम पर 50 लाख रूपये फिरोती की मांग करने व बार-2 फोन कर धमकाने व उन्हीें के द्वारा उसपर फायरिंग करवाने की बात से मामले की संवेदनशीलता अत्यधिक बढ गयी।
विगत वर्ष वादी के शोरूम मोरातारा में हुयी डकैती की घटना की संवेदनशीलता को देखते हुये श्रीमान पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय हरिद्वार के निर्देशन व श्रीमान पुलिस अधीक्षक नगर हरिद्वार व सहा0पु0अ0 ज्वालापुर व क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन के पर्यवेक्षण में घटना के अनावरण हेतु चार टीमों का गठन किया गया।

टीम प्रथम- प्रभारी निरीक्षक ज्वालापुर आर0के0 सकलानी को अनावरण हेतु गठित सभी टीमों में आपसी समन्वय व दबिश हेतु बाहर जाने पर पुलिस बल व लोजिस्टिक सुविधायें प्रदान करने के साथ-2 वादी के दोनो शोरूम व घर पर सुरक्षा व सर्तकता बरतने की जिम्मेदारी प्रदान की गयी। जिसके तहत वादी के घर व दोनों शोरूम पर सादी वर्दी में पुलिस बल दिन-रात तैनात किया गया व वादी से लगातार सम्पर्क रखकर अन्य टीमों को अपडेट किया गया।

टीम द्वितीय– प्रभारी निरीक्षक सीआईयू नरेन्द्र सिंह बिष्ट के नेतृत्व में सीआईयू के कर्मचारियों को विवेचना में तकनीकी सहयोग व बाहरी राज्यों में दबिश देने हेतु थाना ज्वालापुर पुलिस व सीआईयू के कर्मचारियों का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।

टीम तृतीय- चौकी प्रभारी रेल उ0नि0 प्रवीण रावत को थाने के कर्मचारियों के साथ सीआईयू से समन्वय रखते हुये संदिग्धों के सम्भावित ठिकानों पर दबिश हेतु साथ रहने व पूर्व में उक्त शोरूम पर हुयी डकैती की घटना के आरोपियों से जेल में मिलने वालों व जमानत पर छुटे दो अपराधियों की वर्तमान स्थिति तस्दीक करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।

टीम चतुर्थ- कान्स0 61 प्रेमसिंह, कान्स0 516 निर्मल सिंह थाना कनखल, कान्स0 47 जितेन्द्र कोत0नगर को घटनास्थल के आसपास लगे सरकारी व निजी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से घटना में संलिप्त अपराधियों की आवाजाही चैक कर सुराग हासिल करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।

विवेचना के दौरान सभी टीमें व्हाट्सप गु्रप के माध्यम से आपस में जुड गये व अपने-2 द्वारा जुटायी गयी जानकारी को गु्रप में शेयर करना प्रारम्भ कर दिया जिससे घटना के सम्बन्ध में तेजी से जानकारी प्राप्त होने लगी। सीसीटीवी फुटेज की जॉच के दौरान प्रथम दृष्टिया पाया गया कि वादी का पीछा स्कूटी सवार दो बदमाशों द्वारा रानीपुर मोड की ओर से आकर किया गया था जिनके मुॅह पर रूमाल व मास्क लगे थे। सीसीटीवी टीम को इन स्कूटी सवारों के आने का सा्रेत तलाशने के निर्देश दिये गये। दिनांक 29.07.2022 को कान्स0 516 निर्मल द्वारा भगत सिंह चौक पर लगे कन्ट्रोम रूम के लगे सीसीटीवी केमरे को देखकर बताया गया कि उक्त स्कूटी सवारों में पीछे बैठा व्यक्ति यूके 07 एएल 1890 हुण्डई कार से उतरकर स्कूटी में बैठा था.

हुण्डई कार में तीन-चार अन्य व्यक्ति बैठे दिखायी दिये जिससे घटना में कम से कम 4-5 लोगों की संलिप्तता की पुष्टि हुयी। इस कार का रजिस्ट्रेशन नम्बर चैक करने पर पता चला की यह कार प्रदीप कुमार पुत्र सुरेश नि0 रावली महदूद बहादराबाद हरिद्वार के नाम पर रजिर्स्टड है। रजिस्ट्रेशन में दिये गये नम्बर की कॉल डिटेल व सर्विलांस सीआईयू द्वारा करने पर प्रदीप व उसके साथियों को ट्रेस कर लिया गया। जिनकी गिरफ्तारी हेतु सीआईयू व ज्वालापुर पुलिस द्वारा दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, हिमाचल, बिजनौर में दबिशें दी गयी। मुख्य अभियुक्त प्रदीप कुमार को जब यह जानकारी हुयी कि वादी द्वारा पुलिस को रंगदारी मॉगने के सम्बन्ध में रिपोर्ट दर्ज करा दी गयी है तो वह बोखला गया और अपनी आपराधिक साख बचाने व वादी को सबक सिखाने के उद्देश्य से वह दिनांक 04.08.2022 को वादी के शोरूम बन्द करने के बाद उसे ठिकाने लगाने की नियत से अपने साथियों के साथ हरिद्वार आ रहा था कि इसी दौरान पुलिस को इसकी सूचना मिल गयी और रानीपुर झाल के पास से प्रदीप कुमार व उसके साथियों को घटना में संलिप्त कार व अस्लाहों के साथ गिरफ्तार कर लिया।
गिरफ्तार अभियुक्तगण-

  1. प्रदीप चौहान पुत्र सुरेश सिंह नि0 नवादा चौहान थाना नहटौर जिला बिजनौर उ0प्र0 उम्र 29 वर्ष- प्रदीप इस घटना का मुख्य साजिशकर्ता है जो पहले वर्ष 2015 में थाना प्रेमनगर देहरादून से अपने सगे भाई अंकित व एक अन्य अभियुक्त के साथ डकैती के मामले में जेल जा चुका है। प्रदीप इण्डस्ट्रीयल केमेस्ट्री से एम0एस0सी0 है और पूर्व में ओरियन्टल बैंक ऑफ कॉमर्स बुद्व बाजार मुरादाबाद में कर्लक के रूप में काम कर चुका है। इस दौरान वर्ष 2015 में डकैती में सम्मलित होने के कारण उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया। जिसके बाद उसके द्वारा धोखाधडी व अन्य आपराधिक घटनाओं से पैसा कमाया जा रहा था। प्रदीप द्वारा बताया गया कि इस घटना को अन्जाम देने के लिये उसने 6 लाख रूपये खर्च किया। जिसमें 40 हजार की एक पिस्टल व 10-10 हजार के 02 तंमचे, कनखल में किराये पर दो फ्लैट व उत्तम नगर दिल्ली में किराये पर एक फ्लैट पहले से ही छिपने के लिये ले लिया था। गिरफ्तारी के दौरान प्रदीप उपरोक्त से घटना में प्रयुक्त .32 बोर पिस्टल व 04 कारतूस बरामद हुये। पूछताछ पर अभियुक्त ने बताया कि देहरादून प्रेमनगर में हुवी घटना में उसपर कोर्ट में मुकदमा चल रहा है जिसमें उसके वारण्ट निकल रखे हैं देहरादून पुलिस बार-2 मेरे बिजनौर स्थित घर पर दबिश दे रही थी मैं उपरोक्त मामले के वादी से समझौता करना चाहता था जिसके लिये 50-60 लाख रूपये की जरूरत थी। इसपर उसने अपने गॉव के लडकों को मकसद बताकर तेयार किया और मोरा तारा शोरूम से एक चैन व कुण्डल अपनी पत्नी के लिये 2 महीने पहले खरीदे थे जिसके डिब्बे पर वादी व उसके शोरूम के मोबाईल नम्बर अंकित थे। जिनका उसने फिरोती मॉगने में प्रयोग किया।
  2. सचिन प्रजापति पुत्र पंकज कुमार नि0 ग्राम नवादा चौहान थाना नहटौर जिला बिजनौर उम्र 19 वर्ष- शिक्षा – 7 वीं पास अभियुक्त प्रदीप के गॉव का ही रहने वाला है। वादी पर फायर करने के दौरान यह स्कूटी चला रहा था गिरफ्तारी के दौरान इससे एक तंमचा 315 बोर व 02 कारतूस जिन्दा बरामद हुये। इसकी निसानदेही पर घटना में प्रयुक्त स्कूटी भी सिडकुल स्थित इसके कमरे से बरामद की गयी है।
  3. कौशल कुमार पुत्र महेन्द्र सिंह नि0 ग्राम नवादा चौहान थाना नहटौर जिला बिजनौर उम्र 22 वर्ष शिक्षा- बीए प्रथम वर्ष घटना के दौरान वादी पर पिस्टल से फायर की थी गिरफ्तारी के दौरान इससे एक तंमचा 315 बोर मय 03 जिन्दा कारतूस बरामद हुये हैं।
  4. अरूण कुमार पुत्र रणवीर सिंह नि0 उपरोक्त उम्र 19 वर्ष। शिक्षा 9वीं पास। वादी पर फायर करने से पूर्व मुख्य अभियुक्त प्रदीप के साथ कार सवार था।
  5. अंकुर कुमार पुत्र चन्द्रपाल सिंह नि0 ग्राम फिना थाना सिवालाकला जिला बिजनौर उम्र 25 वर्ष शिक्षा 12 वीं पास। वादी पर फायर करने से पूर्व मुख्य अभियुक्त प्रदीप के साथ कार पर सवार था।
    अभियुक्त प्रदीप के विरूद्व थाना प्रेमनगर देहरादून में एक अभियोग मु0अ0सं0 114/2015 धारा 394,397,363, भादवि पंजीकृत है। अन्य स्थानों से भी अभियुक्तगण के विरूद्व अभियोगों की जानकारी एससीआरबी/डीसीआरबी से की जा रही है। अभियुक्तगण के विरूद्व गैंगेस्टर अधिनियम के अर्न्तगत कार्यवाही भी की जायेगी।

    बरामदगी
     घटना में प्रयुक्त कार हुण्डई नं0 यूके 07 एएल 1890।
     स्कूटी नम्बर यूके 08 बी 0089
     पिस्टल 32 बोर 4 कारतूस।
     तंमचा 315 बोर-03 कार0 05

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *