कुंभ 2021: कोविड फर्जीबाड़ा: नेपाली फार्म के पते पर 3825 सेंपल और एक फोन नंबर पर 56 सेम्पल

DM ordered to register a case against two other labs including Delhi Max Corporate in the fraud of corona investigation in Kumbh


नवीन चौहान
कुंभ 2021 में कोविड फर्जीबाड़ा के प्रकरण में मैक्स कॉरपोरेट सर्विस कुंभ मेला, नलवा लैबोरेटिज प्राईवेट लिमिटेड और हिसार एवं डॉ लाल चंदानी लैब के खिलाफ नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जिलाधिकारी सी रविशंकर के आदेशों के बाद मुख्य चिकित्साधिकारी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ शंभूनाथ झा ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि कोविड-19 17 जून, 2021 को एक व्यक्ति ने आईसीएमआर में शिकायत दर्ज कराई। बताया कि कि उनके आधार नं और मोबाईल नं का इस्तेमाल रैपिड एंटीजन टेस्टिंग करने में किया गया है। किन्तु उनके द्वारा कभी भी इस प्रकार का कोई सैम्पल नही दिया गया। आईसीएमआर को
प्रेषित इस शिकायत पर 14 मई 2021 को स्वास्थ्य विभाग, उत्तराखण्ड को प्रेषित किया गया। उक्त प्रकरण में रैपिड ऐंटिजन टेस्ट के लिए सैम्पल के कलेक्शन सेंटर का नाम “ मै मैक्स कॉरपोरेट सर्विस, कुम्भ मेला” अंकित किया गया है। जिस लैब से इनका इनका सैम्पल जॉच किया जाना अंकित किया गया है, उसका नाम “ नलवा लैबोरेट्रीज प्राईवेट लिमिटेड हिसार” है। उक्त का संज्ञान लेकर अपर मिशन निदेशक /चीफ आपरेशन आफिसर, उत्तराखण्ड स्टेट कंट्रोल रूम कोविड-19 ने 7 जून 2021 से जॉच आख्या उपलब्ध कराई गई। जिसके क्रम में जिलाधिकारी सी रविशंकर ने 16 जून 2021 को प्रारम्भिक जॉच रिपोर्ट प्रस्तुत की गई। जो अधोहस्ताक्षरी को दिनांक 17.6.2021 को पृष्ठाकिंत है, जिसमें निम्न तथ्य प्रदर्श किये गये है।– (a) दिनांक 13 अप्रैल, 2021 से 16 मई, 2021 के मध्य उक्त फर्म द्वारा 104796 सैम्पल लिये जाने हेतु एन्ट्री करते हुए एसआरएफआईडी जेनरेट की गई एवं कुल 95102 सैम्पल लिए जाने हेतु पोर्टल में एन्ट्री की गई है, जिसके परीक्षण कर उपरोक्त सैम्पल्स की पॉजिटिविटी दर मात्र 0.18% पाई गई जो उक्त अवधि की हरिद्वार की सामान्य पॉजिटिविटी 5.3% से काफी न्यून है जो संदेह उत्तपन्न करता है।
यह स्पष्ट करता है कि उक्त फर्म द्वारा फर्जी एंट्रियां की गई। क्योकि अधिकांश सैम्पल को निगेटिव दिखाया गया है। Covid-19 के दौरान समस्त पॉजिटिव सैम्पल से सम्पर्क किया जाता है। निगेटिव एंट्रियों से सम्पर्क करने की आवश्यकता नही होती है। इस तरह उक्त फर्म ने जानबूझकर फर्जी एंट्रियॉ कर आर्थिक लाभ प्राप्त करने का प्रयास किया गया है। (b) Empanelled lab द्वारा सैम्पल कलेक्शन ICMR Guaid Lines के अन्तर्गत Sample Collecters को योजित किया जाता है। प्रश्नगत प्रकरण में उक्त फर्म द्वारा उपलब्ध कराये गये Sample Collecters से दूरभाष पर सम्पर्क करने पर अवगत कराया गया कि वे उक्त फर्म अथवा दोनो लैब (Nalwa Lab Dr. Lal Chandani, Delhi) से सम्बंधित नही है। इस प्रकार स्पष्ट है कि सम्बंधित फर्म द्वारा Sample Collecters की भी फर्जी एंट्रियॉ की गई जो वर्तमान में लागू आपदा अधिनियम व महामारी अधिनियम तथा IPC की सम्बंधित धाराओं के अन्तर्गत उल्लघंन है। (c) उक्त फर्म द्वारा कुंभ मेला के समाप्त होने के उपरांत (30 अप्रैल) भी 51298 एंट्रियॉ, दिनांक 1.5.2021 से 16.5.2021 तक पोर्टल पर की गई हैं। तथा एक ही Sample No. पर बडी संख्या में सैम्पल्स की एंट्री की गई। जैसे कुल 27198 सैम्पल ID पर 73551 Sample लिए गये जो सम्भव नही है। स्पष्ट है कि फर्जी एंट्रियॉ कर आपदा अधिनियम के अंतर्गत सरकारी धन को चोरी की मंशा से गम्भीर अपराध किया गया है। (d) उक्त के अतिरिक्त एक ही पते पर व एक ही फोन नं पर अत्यधिक संख्या में सैम्पल लिये जाने वाले वाले व्यक्तियों को दर्ज किया गया है। उक्त आपदा में यह आवश्यक था कि लैब द्वारा प्रत्येक Sample लिये गये व्यक्तियों का सही पता/ फोन नं0 उनके आईडी के आधार पर दर्ज किये जाते जिससे संक्रमित होने की दशा में उनका चिन्हीकरण किया जा सके, परन्तु उक्त फर्म द्वारा ऐसा नही किया गया, जैसे Haridwar Nepali Farm Address पर कुल 3825 व्यक्ति अंकित किये गये है। तथा फोन नं0 7747028144 पर कुल 56 व्यक्ति दर्शाये गये, जिससे यह स्पष्ट होता है कि फर्म को सही नाम/पता/फो0न0 की गम्भीरता को जानते हुए भी जानबूझकर सम्बंधित फर्म द्वारा प्रयोजित तरीके से शासकीय कार्य में धोखाधडी कर शासकीय धन के दुरूपयोग का प्रयास किया गया व प्रदेश व देश के सम्मुख त्रुटिपूर्ण डेटा/ गलत तथ्य प्रस्तुत कर आंकडों में भ्रांति उत्तपन्न की गई है। साथ ही कोविड महामारी में मानव जीवन को गम्भीरता से नही लेते हुये हानि पहुंचाने का कृत्य करते हुये आपदा प्रबंधन अधिनियम -2005 व महामारी अधिनियम -1997 का उल्लंघन का उल्लघंन किया गया है। (e) उक्त के अतिरिक्त सैम्पल लिये जाने पर फर्म/ लैब की यह जिम्मेदारी है कि जियो टैग्ड एसआरएफआई के सापेक्ष आईसीएमएमएम पर प्रविष्ठि सुनिश्चित की जाये, परन्तु प्रश्नगत प्रकरण में अध्ययन करने पर यह पाया गया कि अधिकांश एंट्रियॉ जनपद से बाहर अन्य राज्यों (राजस्थान, उत्तर प्रदेश इत्यादि) में की गई है, जिससे यह स्पष्ट है कि फर्म “ मैक्स कॉरपोरेट सर्विस कुंभ मेला/ नलवा लैबोरेटिज प्राईवेट लिमिटेड, हिसार एवं डॉ लाल चंदानी लैब ने फर्जी एंट्रियॉ उत्तराखण्ड से बाहर की विभिन्न लोकेशन पर की गयी। जो पूर्णतः फर्जी है और इस प्रकार राज्य के साथ धोखाधडी की गई है। अतः अनुरोध है कि फर्म“ मैक्स कॉरपोरेट सर्विस कुंभ मेला/ नलवा लैबोरेटिज प्राईवेट लिमिटेड, हिसार एवं डॉ लाल चंदानी लैब, दिल्ली के विरूद्ध फर्जी एंट्रियॉ, सरकारी धन की चोरी की मंशा व आपदा के अंतर्गत मानव जीवन को हानि पहुंचाने के कृत्य व अपराधिक लापरवाही के दृष्टिगत सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी (FIR) सूचना दर्ज करने का कष्ट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *