डीएवी सेन्टेनरी पब्लिक स्कूल जगजीतपुर में उत्साह के साथ मनाया गया हिन्दी दिवस





नवीन चौहान.
डीएवी जगजीतपुर हरिद्वार विद्यालय के विद्यार्थियों ने हिन्दी दिवस बड़े ही उत्सव के साथ धूमधाम के साथ मनाया। हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में विद्यालय में कई प्रकार के कार्यक्रम विद्यार्थियों ने प्रस्तुत किए।

कक्षा छठी से आठवीं में ‘आज के समय में हिन्दी की व्यापकता और उपयोगिता’ विषय पर निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। ‘हिन्दी भारत के माथे की बिंदी’ पर कविता वाचन प्रतियोगिता आयोजित की गई। हिन्दी भाषा पर आधारित बच्चों के मनपसंद विषय पर कहानी लेखन तथा स्लोगन लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता के परिणाम शीघ्र ही घोषित किए जाएंगे।

इस दिवस पर महत्वपूर्ण अतिथियों द्वारा कक्षा 9 के विद्यार्थियों के लिए एक सभा का आयोजन किया गया। हिन्दी भाषा के साथ-साथ देश प्रेम, स्वावलम्बन एवं आत्मनिर्भरता के बारे में बच्चों का मार्गदर्शन किया गया। अमित त्यागी, जो कि स्वयं एक उद्यमी हैं, ने बच्चों को आत्मनिर्भर एवं स्वावलंबी भारत बनाने के लिए प्रोत्साहित किया।

भारत की सुदृढ़ अर्थव्यवस्था के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि किसी समय भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था। आक्रमणकारियों ने इसे बार-बार लूटा। उन्होंने समझाया कि भारत में संसाधनों की कमी नहीं है, आवश्यकता है अवसरों को ढूँढने की। यह आवश्यक नहीं कि शुरूआत बड़े उद्योगों से ही की जाए, लघु उद्योगों की स्थापना की जानी चाहिए। किस प्रकार लघु उद्यमियों ने छोटी से शुरूआत से ऊँचाइयों को छुआ है, यह उन्होने बच्चों को उदाहरण देते हुए बताया। भारत के पास आधारभूत ढाँचा है, आवश्यकता है उसका लाभ उठाकर आगे बढ़ने की, आत्मनिर्भर होने की।

भाई चिरंजीव ने आत्मनिर्भरता की आवश्यकता पर बल दिया। इजराइल का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि इस छोटे से देश ने स्वयं को पहले आत्मनिर्भर बनाया और आज इजरायल शक्तिशाली देशों में शुमार है। हिन्दी भाषा पर अपने विचार रखते हुए उन्होंने कहा कि हिन्दी हमारे देश का अभिमान है, पहचान है और यह बना रहना चाहिए। क्योंकि हिंदी जब तक है, तब तक हिंदुस्तान है। सरिता जी ने देश-प्रेम से ओत-प्रोत एक अत्यन्त सुन्दर गीत द्वारा बच्चों में राष्ट्रप्रेम की भावना को जगाए रखने की कोशिश की।

कार्यक्रम के अंत में विद्यालय के कार्यवाहक प्रधानाचार्य मनोज कुमार कपिल ने हिन्दी विभाग द्वारा तैयार किए गए कार्यक्रम की प्रशंसा की और बताया कि विद्यालय में बच्चों के सर्वांगीण विकास पर बल दिया जाता है। उन्होंने सभी उपस्थित अतिथियों का धन्यवाद किया।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *