प्रयागराज में प्रस्तावित बैठक से पहले ही हरिद्वार में चुन लिया अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष

नवीन चौहान.
अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत के बाद से परिषद के नए अध्यक्ष को लेकर खींचतान चल रही है। एक गुट ने 25 अक्टूबर को प्रयागराज में बैठक बुलायी हुई है, लेकिन उससे पहले ही हरिद्वार में सात अखाड़ों ने सर्व सम्मति से अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का नया अध्यक्ष महानिर्वाणी अखाड़ा के श्री महंत रवींद्रपुरी को चुन लिया।

अखाड़ों में अध्यक्ष की कुर्सी के लिए दो फाड़ हो गए हैं। बैरागी और उदासीन आखड़ों ने सन्यासी अखाड़ों से अलग होकर अपना नया अध्यक्ष और महामंत्री घोषित किया है। जबकि अखाड़ा परिषद के महामंत्री हरिगिरि की ओर से 25 अक्टूबर को प्रयागराज में बैठक बुलाई गई है।

अब देखना यही है कि अखाड़ा ​परिषद की कुर्सी को लेकर चल रही खींचतान कहां जाकर रूकेगी। चर्चा यही है कि सन्यासी अखाड़े नए अध्यक्ष को स्वीकार नहीं करेंगे। ऐसे में विवाद कम होने की जगह और अधिक बढ़ जाएगा।

बृहस्पतिवार को बैरागी और उदासीन अखाड़ों ने हरिद्वार में श्री पंचायती महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रवींद्रपुरी को अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष घोषित कर दिया है। इसके साथ ही बैरागी निर्मोही अनी अखाड़े के अध्यक्ष राजेंद्र दास को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का महामंत्री घोषित किया गया।

बड़ा उदासीन अखाड़ा के महंत दामोदरदास को उपाध्यक्ष, महंत जसविंदर सिंह शास्त्री को कोषाध्यक्ष, महंत राम किशोर दास को मंत्री, महंत गौरी शंकर दास को प्रवक्ता, महंत धर्मदास को संरक्षक व महेंद्र महेश्वर दास को संरक्षक घोषित किया गया है।

कनखल स्थित महानिर्वाणी अखाड़े में हुई बैठक में अखाड़ा परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र सिंह शास्त्री की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में हुए फैसले से मीडिया को भी अवगत कराया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *