आचार्यकुलम जहां योग व अध्यात्म से प्राप्त संस्कारों सेे विद्यार्थी का नित्य शिखारोहण होता है: स्वामी रामदेव





— दीक्षारोहण का पावन उत्सव सकारात्मक व पुरुषार्थ का संवाहक है। दीक्षा प्राप्त विद्यार्थियों को योग व यज्ञ के अनुशासन का सदैव पालन करना चाहिए: आचार्य बालकृष्ण जी

नवीन चौहान.
हरिद्वार। स्वामी रामदेव व आचार्य बालकृष्ण द्वारा स्थापित आवासीय विद्यालय आचार्यकुलम् में सत्र 2022-23 की कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के दीक्षारोहण का पावन उत्सव वैदिक रीति से संपन्न हुआ। इस सुअवसर पर आचार्यकुलम् शिक्षण संस्थान में 10 कुण्डीय विशेष यज्ञ का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि स्वामी रामदेव जी व आचार्य बालकृष्ण जी की गरिमामयी उपस्थिति में सत्र 2022-23 की कक्षा 12वीं के 45 बालकों व 27 बालिकाओं सहित कुल 72 विद्यार्थियों का दीक्षारोहण वैदिक रीति से सम्पन्न हुआ।

मंत्रेच्चार के मध्य स्वामी जी ने प्रत्येक क्रियाविधि की सरल व्याख्या की तथा सभी विद्यार्थियों ने स्वामी जी व आचार्य जी द्वारा प्रज्जवलित ‘महाज्ञान ज्योति’ से अपने दीपों को प्रज्जवलित कर दीक्षारोहण की प्रतिज्ञा ली और आचार्यकुलम् से प्राप्त शिक्षा व संस्कारों को सर्वत्र प्रसारित करने का संकल्प व्यक्त किया। अंततः स्वामी जी व आचार्य जी ने सभी विद्यार्थियों को अपने प्रतीक चिन्ह भेंट किए और सुमनवृष्टि कर शुभाशीष प्रदान किया। स्वामी जी ने कहा कि आचार्यकुलम विश्व का एकमात्र शिक्षण संस्थान है जहाँ योग व अध्यात्म से प्राप्त संस्कारों सेे विद्यार्थी का नित्य शिखारोहण होता है।


इस अवसर पर आचार्य जी ने कहा कि दीक्षारोहण का पावन उत्सव सकारात्मक व पुरुषार्थ का संवाहक है। उन्होंने कहा कि दीक्षा प्राप्त विद्यार्थियों को योग व यज्ञ के अनुशासन का सदैव पालन करना चाहिए। आचार्यकुलम् प्रबंधन की उपाध्यक्षा डॉ. ऋतम्भरा शास्त्री व प्राचार्या आराधना कौल ने भी विद्यार्थियों को आगामी बोर्ड परीक्षाओं हेतु शुभकामनाएँ व शुभाशीष प्रदान किए। उक्त अवसर पर पतंजलि विश्वविद्यालय की कुलानुशासिका व डीन साध्वी देवप्रिया जी, क्रय समिति अध्यक्षा बहन अंशुल, संप्रेषण विभागाध्यक्षा बहन पारूल, पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रति-कुलपति डॉ. महावीर अग्रवाल, भारतीय शिक्षा बोर्ड के कार्यकारी अध्यक्ष एन.पी. सिंह, भारत स्वाभिमान के मुख्य केन्द्रीय प्रभारी स्वामी परमार्थदेव एवं भाई राकेश, आचार्य रजनीश सहित सभी आचार्य, कर्मचारीगण व विद्यार्थी उपस्थित रहे।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *