Breaking News
Home / Big News / भारत माता के सच्चे सपूत स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि धरती मां की गोद में, संतों ने दी भू समाधि

भारत माता के सच्चे सपूत स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि धरती मां की गोद में, संतों ने दी भू समाधि

नवीन चौहान
उत्तरी हरिद्वार में भारत माता मंदिर की स्थापना करने वाले संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज को भू समाधि दे दी गई है। वह मां की गोद में चिर निंद्रा में लीन हो गए है। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, साध्वी निरंजन ज्योति, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सांसद नरेंद्र तोमर, प्रहलाद पटेल समेत कई बड़े नेताओं ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए उन्हें अंतिम प्रणाम किया।
स्वामी सत्यामित्रानंद को श्रद्धांजलि देने के लिए मंगलवार सुबह से ही बड़ी संख्या में भक्तों का तांता लग गया। सुबह सबेरे करीब 10 बजे केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक भारत माता मंदिर आश्रम पहुंचे। वहां उन्होंने अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। करीब एक घंटे तक वह स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज के समक्ष भक्तों में शामिल रहे। योगगुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण समेत कई हस्तियों ने वहां पहुंचकर श्रद्धांजलि दी। श्रद्धांजलि सभा के संपन्न होने के बाद स्वामी सत्यमित्रानंद की अंतिम यात्रा आश्रम परिसर में ही निकाली गई। बैंड बाजों के साथ निकाली गई अंतिम यात्रा के बाद उनके पार्थिव शरीर को समाधि स्थल में स्थापित किया गया। यहां विधि-विधान और मंत्रोच्चारण के साथ उन्हें भू समाधि दी गई। ​आश्रम परिसर में मौजूद भक्तों की आंखों में आंसू दिखाई दिए। तो सभी गणमान्य लोगों ने स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज के निधन को एक अपूर्णीय क्षति बताया।
विदित हो कि भारत माता मंदिर के संस्थापक पद्मभूषण महामंडलेश्वर स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि महाराज (87 वर्ष) मंगलवार सुबह अपने निवास राघव कुटीर में ब्रह्मलीन हुए। वह विगत काफी समय से गंभीर रूप से बीमार चल रहे थे। राजधानी देहरादून के मैक्स अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। पांच दिन पूर्व ही उन्हें हरिद्वार लाकर यहां उनकी कुटी को आइसीयू में तब्दील कर दिया गया था। आश्रम परिसर में ही उन्होंने अंतिम सांस ली। स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज को श्रद्धांजलि देने के लिए भारी संख्या में दूर दराज के संत समाज के लोग हरिपुर कलॉ स्थित राघव कुटीर पहुंचे।

About naveen chauhan

Check Also

महिलाओं को स्वयं अपनी मानसिकता बदलने की जरूरत

सोनी चौहान भारतीय जागृति समिति द्वारा भारतीय महिला जागृति समिति द्वारा, महिला कानून में, जागृति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!