Breaking News
Home / Breaking News / कोरोना ने भूख प्यास से तड़पाया और मकान मालिक ने निकाला

कोरोना ने भूख प्यास से तड़पाया और मकान मालिक ने निकाला

Read Time0Seconds

नवीन चौहान
कोरोना संक्रमण का प्रभाव मानव जीवन को कितना प्रभावित कर रहा है इसकी बानगी का अंदाजा हकीकत को देखकर लगाया जा सकता है। 60 साल के बुजुर्ग को मजदूरी मिलना बंद हो गई तो मकान मालिक ने भी कमरा खाली करा दिया। भूख प्यास से तड़पता हुआ बुजुर्ग राजकुमार भटनागर एक समाजसेवी राम गुप्ता के दरवाजे पर पहुंचा। जहां उसको भोजन मिला और अपने घर लौटने के लिए 1000 की आर्थिक मदद भी मिली। कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक संकट का सामना कर रहे राजकुमार कोई अकेले नही है। ऐसे सैंकड़ों परिवार इन दिनों भूखे पेट सो रहे है।
यूपी के हरदोई निवासी राजकुमार भटनागर 60 वर्ष की आयु में मेहनत मजदूरी करके अपना पेट भर रहे थे। लेकिन कोरोना काल में उनका रोजगार चला गया। मजदूरी मिलना बंद हो गई तो मकान का किराया तक नही दे पाए। आखिरकार मकान मालिक ने भी कमरा खाली करा दिया। राजकुमार ने आश्रमों में रोटी खाकर गुजारा चलाया। लेकिन काम की उम्मीद फिर भी ना दिखी। अब राजकुमार की अपने घर जिंदा जाने की चाहत थी। इसी उम्मीद के साथ वह लोगों के दरवाजे पर मदद मांगने पहुंचे। जहां उनकी मुलाकात एक दयालु व्यक्ति राम गुप्ता से हो गई। राम गुप्ता ने भोजन कराया और उनकी व्यथा सुनी। उनकी आंखे भर आई। जिसके बाद राजकुमार को ​घर जाने के लिए एक हजार रूपये देकर आर्थिक सहयोग दिया। राम गुप्ता राजकुमार के लिए अवतार बनकर आए। लेकिन इस आपदा की घड़ी में जब गरीब आदमी संकट से गुजर रहा है तो कितने राम सामने आयेंगे। विचारणीय

2 0
100 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise

About naveen chauhan

Check Also

उत्तराखंड: एक दिन में मिले 336 नए कोरोना मरीज

नवीन चौहान कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला कम नहीं हो रहा है। सोमवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!